हिन्दी भाषा एवं साहित्य

हिन्दी संवैधानिक रूप से भारत की राजभाषा और भारत की सबसे अधिक बोली और समझी जानेवाली भाषाोहै। हिन्दी और इसकी बोलियाँ उत्तर एवं मध्य भारत के विविध राज्यों में बोली जाती है। हिन्दी का स्वरूप शौरसेनी और अर्धमागधी अपभ्रंशों से विकसित हुआ हैं। हिन्दी भाषा व साहित्य के जानकार अपभ्रंश की अंतिम अवस्था अवहट्ठ से हिन्दी का उद्भव स्वीकार करते है। चंद्रधर शर्मा गुलेरी ने इसी अवहट्ठ को ‘पुरानी हिन्दी’ नाम दिया।

हिन्दी (बोलियाँ)

(क)  पश्चिमी हिन्दी - (i) कौरवी (खडी बोली)

                              (ii) ब्रजभाषा

                              (iii) हरियाणवी

                              (iv) बुंदेली

                              (v) कन्नौजी

                              (vi) बाँगरू (पश्चिमी हिन्दी-साहित्यक राजस्थानी)

(ख)  पूर्वी हिन्दी -   (i) अवधी

                          (ii) बघेली

                          (iii) छत्तीसगढ़ी

(ग)   राजस्थानी -  (i) मारवाड़ी

                          (ii) जयपुरी

                          (iii) मेवाती

                          (iv) मालवी

(घ)   पहाड़ी -        (i) कुमायुँनी

                          (ii) गढ़वाली

(ङ)   बिहारी -        (i) भोजपुरी

                          (ii) मगधी

                          (iii) मैथिली